मंगलवार, 31 मई 2016

मयंक अवस्थी की ग़ज़लें


चित्र गूगल सर्च इंजन से साभार


वही  अज़ाब  वही  आसरा..


वही  अज़ाब  वही  आसरा  भी  जीने का
वो मेरा दिल ही नहीं ज़ख्म भी है सीने का

मैं बेलिबास  ही शीशे के  घर में रहता हूँ
मुझे भी शौक है  अपनी तरह से जीने का

वो  देख  चाँद की पुरनूर  कहकशाओं  मे
तमाम  रंग  है  खुर्शीद  के  पसीने   का

मैं पुरख़ुलूस हूँ फागुन की दोपहर की  तरह
तेरा  मिजाज़  लगे  पूस  के  महीने  का

समंदरों  के  सफ़र  में सम्हाल कर रखना
किसी  कुयें  से जो पानी मिला है पीने का

'मयंक' आँख में सैलाब उठ न पाये कभी  
कि  एक अश्क मुसाफिर है इस सफीने का
                           

  • अज़ाब=पीड़ा 
  • पुरनूर कहकशाओं = ज्योतिर्मय व्योम गंगाओं 
  • खुर्शीद=सूर्य 
  • पुरखुलूस=अत्मीयता से भरा हुआ


क़ैदे-शबे-हयात बदन में..


क़ैदे-शबे-हयात बदन में गुज़ार के
उड़ जाऊँगा मैं सुबह अज़ीयत उतार के

इक धूप ज़िन्दगी को यूँ सहरा बना गयी
आये न इस उजाड़ में मौसम बहार के

ये बेगुनाह शम्म: जलेगी तमाम रात
उसके लबों से छू गये थे लब शरार के

सीलन को राह मिल गयी दीमक को सैरगाह
अंजाम देख लीजिये घर की दरार के

सजती नहीं है तुमपे ये तहज़ीब मग़रिबी 
इक तो फटे लिबास हैं वो भी उधार के

बादल नहीं हुज़ूर ये आँधी है आग की
आँखो से देखिये ज़रा चश्मा उतार के

जब हथकड़ी को तोड़ के क़ाफ़िर हुआ फ़रार
रोते रहे असीर ख़ुदा को पुकार के

  • क़ैदे-  शबे-  हयात- जीवन रूपी रात्रि की कैद
  • मग़रिबी –पश्चिमी  

 

कभी यकीन की दुनिया में..


कभी यकीन की दुनिया में जो गये सपने
उदासियों के समन्दर में खो गये सपने

बरस रही थी हक़ीकत की धूप घर बाहर
सहम के आँख के आँचल में खो गये सपने

कभी उड़ा के मुझे आसमान तक लाये
कभी शराब में मुझको  डुबो गये सपने

हमीं थे नींद में जो उनको सायबाँ समझा
खुली जो आँख तो दामन भिगो गये सपने

खुली रही जो मेरी आँख मेरे मरने पर
सदा–सदा के लिये आज खो गये सपने
                                                                             

खुलती ही नहीं आँख..


खुलती ही नहीं आँख उजालों के भरम से
शबरंग हुआ जाउँ मैं सूरज के करम से

तरकीब यही है उसे फूलों से ढका जाय 
चेहरे को बचाना भी है पत्थर के सनम से

इक झील सरीखी है गज़ल दश्ते-अदब में 
जो दूर थी, जो दूर रही, दूर है  हम से

आखिर ये खुला वो सभी ताज़िर थे ग़ुहर के 
जिनके भी मरासिम थे मेरे दीदा-ए-नम से

क्योंकर वो किसी मील के पत्थर पे ठहर जाय       
क्यों रिन्द की निस्बत हो तेरे दैरो-हरम से

ये मेरे तख़ल्लुस का असर मुझ पे हुआ है
अब याद नहीं अपना मुझे नाम कसम से

  • करम –कृपा
  • ताज़िर –व्यापारी
  • तख़ल्लुस –उपनाम
  • रिन्द – मयकश
  • निस्बत –सम्बन्ध
  • दैरो-हरम- मन्दिर –मस्ज़िद 

तारों से और बात में..


तारों से और बात में कमतर नहीं हूँ मैं
जुगनू हूँ इसलिये कि फ़लकपर नहीं हूँ मैं

सदमों की बारिशें मुझे कुछ तो घुलायेंगी
पुतला हूँ ख़ाक का कोई पत्थर नहीं हूँ मैं

दरिया-ए-ग़म में बर्फ के तोदे की शक्ल में

मुद्दत से अपने क़द के बराबर नहीं हूँ मैं

उसका ख़याल उसकी  ज़ुबाँ उसके तज़्किरे
उसके क़फ़स से आज भी बाहर नहीं हूँ मैं

मैं तिश्नगी के शहर पे टुकड़ा हूँ अब्र का      
कोई गिला नहीं कि समन्दर नहीं हूँ मैं

टकरा के आइने से मुझे इल्म हो गया             
किर्चों से आइने की, भी बढकर नहीं हूँ मैं

क्यूँ ज़हर ज़िन्दगी ने पिलाया मुझे “मयंक”  
वो भी तो जानती थी कि,शंकर नहीं हूं मैं   

  • तज़्किरे –ज़िक्र
  • तिश्नगी =प्यास
  • अब्र =बादल 
  • दरिया-ए-ग़म=दु:ख के दरिया में
  • बर्फ केतोदे==बर्फ क ढेर (हिमशैल का छोटा रूप )


मयंक अवस्थी



  • जन्म-25 जून, 1964/हरदोई (उत्तर प्रदेश) 
  • साहित्यिक परिचय–ग़ज़ल तथा गीत विधाओं में रचनायें तथा समीक्षायें । 
  • सम्पादन–गज़ल संग्रह 'तस्वीरें पानी पर' (1999), 'लफ़्ज़' पत्रिका के वेब एडिशन का सम्पादन सन 2012 से. 
  • सम्प्रति –भारतीय रिज़र्व बैंक कानपुर में कार्यरत 
  • सम्पर्क–बी -11, भारतीय रिज़र्व बैंक अधिकारी आवास, तिलक नगर, कानपुर-208002 
  • ईमेल-awasthimka@gmail.com 

पुस्तक समीक्षा: सामाजिक असंगतियों को बेनकाब करती कवितायें-डा.राधेश्याम बंधु




                          

                       कविता संग्रह-‘ठहरी बस्ती-ठिठके लोग’/ अवधेश सिंह


‘ठहरी बस्ती-ठिठके लोग’ चर्चित कवि अवधेश सिंह का दूसरा कविता संग्रह है। इसके पहले भी उनका पहला कविता संग्रह ‘छूना बस मन’ प्रकाशित और चर्चित हो चुका है। प्रथम कविता संग्रह की प्रेम कविताओं में जहां रागात्मक अनुभूतियों की पारम्परिक थरथराहट देखने को मिलती है, वहीं दूसरे संग्रह की कविताओं मंजे कवि की वस्तुपूरकता और वस्तुवादी वर्गीय चेतना के प्रमाण भी स्पष्ट रूप से देखने को मिलते हैं और यह कवि की अध्ययनशीलता और सजगता के कारण ही सम्भव हो सका है । ये कवितायें दैनिक अखबार की तरह रोज घटने वाली घटनाओं की मात्रा सूचनायें ही नहीं देतीं बल्कि तत्कालीन चुनौतियों के अनुरूप अपने को तैयार रखने के लिए दिशा निर्देश भी देती हैं । जिन्दगी में, समाज में चाहे जितनी निराशाजनक असंगतियां, अराजकता, खुदगर्जी हो, पिफर भी जिन्दगी और जिन्दगी के सपने कभी मरते नहीं हैं।
      ‘ठहरी बस्ती-ठिठके लोग’ की कवितायें निश्चितरूप से उपभोक्तावादी, यथास्थितिवादी सोच वाले लोगों के लिए भी चुनौतीपूर्ण सवाल प्रस्तुत करती हैं कि यदि बस्ती के लोगों की जिन्दगी में ठहराव और उदासीनता है तो उसके लिए कौन जिम्मेदार है? कविता में थोथी बौद्धिकता की शाब्दिक, भाषिक बाजीगरी करने वाले कवियों से भी यह सवाल है कि क्या उन्होंने इस सामाजिक निष्क्रियता और प्रतिगामिता के बारे भी कभी सोचा कि इसके लिए कौन जिम्मेदार है? इस द्रष्टिकोण से अवधेश सिंह की सामाजिक सरोकारों की जागरूक कवितायें सीधी -सहज भाषा में आम आदमी के दुख-दर्द, गरीबी, भुखमरी, बेरोजगारी को विषय बनाकर उनसे संवाद स्थापित करने का प्रयास करती हुई भी प्रतीत होती हैं साथ ही उनकों इन असंगतियों से जूझना भी सिखाती हैं। हम देखते हैं कि प्रत्यक्षतः ये गद्य कवितायें हैं किन्तु इनकी अन्तरात्मा की आन्तरिक बुनावट पूर्णरूपेण गीतात्मक है।
     इससे स्पष्ट होता है कि हर कवि में विकास की सम्भावनायें होती हैं वशर्तें कि कवि में अपने को युगानुरूप बदलने की प्रबल इच्छा हो और साथ ही उसमें  अध्ययनशीलता की जिज्ञासा भी हो । यहां यह भी बताना जरूरी है कि जब कवि कविता की वस्तुवादी आलोचना से भी परिचित होता है, तो उसे अपनी कविताओं को मानव की बेहतरी की चिन्ता के अनुरूप न्यायपरक बनाना ज्यादा आसान होता है । यही बात मैंने अपनी पुस्तक ‘नवगीत के नये प्रतिमान’ में भी समझाने का प्रयास किया है कि ‘‘साहित्य का वस्तुतत्व यदि क्या, क्यों, और किसके लिए प्रश्नों के जवाब की खोज का परिणाम है तो वह साहित्य को जनप्रिय और यथार्थवादी दोनों बनायेगा और इससे भिन्न हुआ तो वह निरन्तर अमूर्त होता जायेगा। वस्तुतः वस्तुतत्व साहित्य में मनुष्य के मनुष्य होने का प्रमाण है।’’  ;( ‘नवगीत के नये प्रतिमान’ डा. राधेश्याम बंधु पृष्ठ 14 )
    इस दृष्टि  से इस संग्रह की कवितायें काफी  हद तक आश्वस्त करती हैं और विश्वास दिलाती हैं कि कवि सिर्फ कविता ही नहीं लिखता है बल्कि वह कविता की वस्तुवादी आलोचना और वर्गीय चेतना से भी प्रिचित है और उसने उसका निर्वाह करना भी जानता है। इसका प्रमाण है उनकी कविता ‘जिन्दगी फुटपाथ की सेल हो गई ’। आज बाजारबाद समाज पर जिस तरह प्रभावी होता जा रहा है यह हम सबके लिए एक चिन्ता की बात है। इसी का दुष्परिणाम है कि हमारे रिश्ते, नाते, आचार, विचार के मूल्यों में अनवरत गिरावट देखने को मिल रही है। कुछ पंक्तियां दृष्टव्य हैं-  

महंगाई
इतनी बढ़ी 
अझेल हो गयी 
गृहस्थी
समस्याओं की 
रेल हो गयी 
हर घर की
बस एक सी कहानी
आपसी सारी बातें
बेमेल हो गयी [ पृष्ठ 31 से ]

    इसी प्रकार की एक मार्मिक कविता है ‘बीमार मिल का सायरन’ । हम जानते हैं कि पहले मिल, कारखाने जो कामगारों को काम देते थे, मिस्त्री , मजदूरों के चूल्हों को गरम बनाये रखते थे और पीठ पर बस्ता लादे हुए बच्चों को पढ़ने के लिए स्कूल भेजते थे, वे आज अवसरवादी राजनीति के कारण खुद ही बीमार हो गये हैं और उनमें बन्दी के ताले पड़ गये हैं। इससे लाखों कामगार बेकार हो गये हैं । बहुतों के घरों में चूल्हा भी नहीं जल पाता। कविता की कुछ पंक्तियां यहां दृष्टव्य हैं-

मिल की दीवार पर
यह सदियों से जड़ा है
बीमार मिल का सायरन
बना मूक दर्शक चुप पड़ा है

कभी था बस्ती की
गलियों से कामगारों की
भीड़ को मिल के गेट तक 
ले जाने वाला
जाना माना पथ प्रदर्शक
बन गया है मूकदर्शक
अब यह सायरन!
हो दुखी , हो अनमन
हो लाचार 
देखता है खोलियों के
तंग हाल भूखे नंगे
फटे हाल बीमार तन ! [ पृष्ठ 68 से ]

 अब तो उंगलिया और हथेलियाँ
स्याही की कलम से रंगती  नहीं हैं
बेदाग साफ सुथरे हाथ
बाल पेन की
सरसराती सांप सी लिखावट से
आदेश निर्देश प्रस्ताव के जहर बोते है
कागजों  पर
उगाते हैं मौत - बदहवासी -पीड़ाओं
की लहलहाती फसलें
सिर्फ बस सिर्फ एक रोटी के खातिर  [ पृष्ठ 72 से ]

        इस प्रकार हम देखते हैं कि ‘पेट की खातिर’ और ‘रोटी’ के नाम पर कुछ लोगों का समाज में अपराध का धंधा  खूब फल-फूल रहा है और वे सफेद कालर उचा करके सभ्य होने का नाटक भी करते हैं । ऐसे रंगे स्यारों को बेनकाब करके यह कविता शरीफ लोगों की आखे भी खोलती है और उनसे सतर्क रहना भी सिखाती है। इस संग्रह में ऐसी ही व्यंजनापरक कई कवितायें हैं जो सीधी -सहज भाषा में सामाजिक असंगतियों से परिचित कराने में पूरी तरह सक्षम हैं जैसे जिन्दगी सिपर्फ कविता नहीं, बंद तो सब बंद है, आम आदमी, बजट, पर्यावरण उवाच, द्रोपदी का चीरहरण, लक्ष्मण रेखा, मेरे बच्चे, भ्रष्टाचार, छले जाने का भय, रोटी, दलितोत्थान, आदि ।
      ये यथार्थवादी कवितायें सामाजिक सरोकारों को लोक धर्मी  भाषा और शिल्प में अपने सम्बोध्य आम जनता तक सम्प्रेषित करने में पूरी तरह सक्षम हैं और पठनीय भी हैं । किन्तु  वहीं  यह  भी  स्पष्ट  करना बहुत जरूरी है कि आचार्य नन्ददुलारे बाजपेयी के अनुसार कविता सिर्फ अखबार की कतरन नहीं है बल्कि कविता कुछ अलग और आगे की बात भी व्यंजनापरक शैली में करती है । इसलिए किसी भाव को प्रस्तुत करने के लिए उसे एक कलात्मक स्वरूप भी ग्रहण करना पड़ता है, तभी वह दूरगामी जीवन्तता और प्रभाव ग्रहण कर पाती है । इसलिए ‘ठहरी बस्ती-ठिठके लोग’ के लिए अवधेश सिंह को बधाई  देने के साथ मैं यह संकेतित करना भी जरूरी समझता हूं और मुझे पूरा  विश्वास है कि वे अपने आगामी कविता संग्रह की तैयारी में और भी मेहनत करेंगे  तथा हमें उनसे और भी सार्थक तथा सजग कवितायें पढ़ने को मिलेंगी ।

  • समीक्ष्य पुस्तक-ठहरी बस्ती ठिठके लोग/कविता संग्रह-अवधेश सिंह/2014/ ISBN : 978-93-81480/प्रकाशक: विजय बुक्स, सुभाष पार्क नवीन शाहदरा, दिल्ली-110032/पृष्ठ : 86/मूल्य 195/ 
     

डा. राधेश्याम बंधु


सम्पादक,
‘समग्र चेतना’   
पता-बी-3/163, यमुना विहार,            
दिल्ली-110053                  

मंगलवार, 24 मई 2016

सत्य प्रकाश शर्मा की गज़लें


चित्र गूगल सर्च इंजन से साभार


एक सफर दिल से..


माज़ी से मुस्तकिबल तक 
एक सफर दिल से दिल तक 

रास्तों में यारी कर ले 
आ जाएगा मंजि़ल तक 

दरिया कितना भूखा है 
खा जाता है साहिल तक 

दिखता है उसका चेहरा 
तनहाई से महफि़ल तक 

रंगीनी है दुनिया की 
बस आँखों की झिलमिल तक 

मुश्किल में आसानी है 
आसानी है मुश्किल तक 


ऐसा भी कुछ कहो कि..


एहसास में हो ‘मीर’, जबाँ में ‘असद’ रहे 
ऐसा भी कुछ कहो कि जहाँ में सनद रहे 

सर ही नहीं उठाना तो डरने की बात क्या 
चेहरा हो चाहे जैसा भी, कैसा भी क़द रहे 

कोई सबब तो हो कि तुम्हें याद रख सकें 
दिल टूटने में कुछ तो तुम्हारी मदद रहे 

इल्ज़ाम हमसे कोई नकारा नहीं गया 
जिस जुर्म में शरीक रहे, नामज़द रहे 

ये जि़न्दगी की जंग लडंूगा मैं शान से 
लेकिन है शर्त साथ ग़मों की रसद रहे 


मुख्तलिफ़ रंग हैं जमाने के..


कुछ दिखाने के, कुछ छुपाने के 
मुख्तलिफ़ रंग हैं जमाने के 

छीन कर हमसे ले गया कोई 
सारे अन्दाज़ मुस्कराने के 

जि़न्दग़ी बस उसे कहा जाए 
जिसमें मौके़ हों गुनगाने के 

क्या सिले देखिए मिले हमको 
इन बुतों को खुदा बनाने के 

दाने-दाने पे उसका है 
लोग मोहताज दाने-दाने के 


चोट खाते रहे..


चोट खाते रहे ज़माने से 
बाज़ आए न मुस्कुराने से 

चार-सू रौशनी महकती है 
एक दिल का दिया जलाने से 

हमसे मिल जाओ फिर कभी आकर 
ज़ख़्म होने लगे पुराने से 

ज़िक्र उनका कोई करे हमसे 
जिनको देखा नहीं ज़माने से 

इश्क करना गुनाह ठहरा तो 
हम गुनहगार हैं ज़माने से 

कह रही हैं ख़तों की तहरीरें 
हम न मिट पाएंगे मिटाने से 

धूप के तज्रबे सुनाते हैं 
बैठकर लोग शामियाने से 

हुस्न की शान में ग़ज़ल कहना 
सीखिये ‘मीर’ के घराने से 

घर-सा लगने लगा है मयख़ाना 
रोज़ आने से, रोज जाने से 


ये तमाशा है, सब...


ये तमाशा है, सब लकीरों का 
मुन्तजि़र है शिकार तीरों का 


गाल अपने बजाओ महफि़ल में 
क्या करोगे मियाँ मँजीरों का 

जुल्म पर, कैद पर, हु़कूमत पर 
कितना एहसान है असीरों का 

कंकरी कोहेनूर कर डालें 
मर्तबा है बड़ा फ़क़ीरों का 

कौडि़यों की जिन्हें तमीज़ नहीं 
भाव तय कर रहे हैं हीरों का 

पुस्तक समीक्षा: संक्रांतिकाल की साक्षी कवितायें-आचार्य भगवत दुबे




कविता को परखने की कोई सर्वमान्य कसौटी तो है नहीं जिस पर कविता को परखा जा सके। कविता के सही मूल्याङ्कन की सबसे बड़ी बाधा यह है कि लोग अपने पूर्वाग्रहों और तैयार पैमानों को लेकर किसी कृति में प्रवेश करते हैं और अपने पूर्वाग्रही झुकाव के अनुरूप अपना निर्णय दे देते हैं। अतः, ऐसे भ्रामक नतीजे हमें कृतिकार की भावना से सामंजस्य स्थापित नहीं करने देते। कविता को कविता की तरह ही पढ़ना अभी अधिकांश पाठकों को नहीं आता है। इसलिए श्री दिनकर सोनवलकर ने कहा था कि 'कविता निश्चय ही किसी कवि के सम्पूर्ण व्यक्तित्व की अभिव्यक्ति है। किसी व्यक्ति का चेहरा किसी दूसरे व्यक्ति से नहीं मिलता, इसलिए प्रत्येक कवी की कविता से हमें कवी की आत्मा को तलाशने का यथासम्भव यत्न करना चाहिए, तभी हम कृति के साथ न्याय कर सकेंगे।' शायद इसीलिए हिंदी के उद्भट विद्वान डॉ. रामप्रसाद मिश्र जब अपनी पुस्तक किसी को समीक्षार्थ भेंट करते थे तो वे 'समीक्षार्थ' न लिखकर 'न्यायार्थ' लिखा करते थे।
रचनाकार का मस्तिष्क और ह्रदय, अपने आसपास फैले सृष्टि-विस्तार और उसके क्रिया-व्यापारों को अपने सोच एवं दृष्टिकोण से ग्रहण करता है। बाह्य वातावरण का मन पर सुखात्मक अथवा पीड़ात्मक प्रभाव पड़ता है। उससे कभी संवेद नात्मक शिराएँ पुलकित हो उठती हैं अथवा तड़प उठती हैं। स्थूल सृष्टि और मानवीय भाव-जगत तथा उसकी अनुभूति एक नये चेतन संसार की सृष्टि कर उसके साथ संलाप का सेतु निर्मित कर, कल्पना लोक में विचरण करते हुए कभी लयबद्ध निनाद करता है तो कभी शुष्क, नीरस खुरदुरेपन की प्रतीति से तिलमिला उठता है।


गीत-नवगीत संग्रह 'काल है संक्रांति का' के रचनाकार आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' श्रेष्ठ साहित्यिक पत्रिका 'दिव्य नर्मदा' के यशस्वी संपादक रहे हैं जिसमें वे समय के साथ चलते हुए १९९४ से अंतरजाल पर अपने चिट्ठे (ब्लॉग) के रूप में निरन्तर प्रकाशित करते हुए अब तक ४००० से अधिक रचनाएँ प्रकाशित कर चुके हैं। अन्य अंतर्जालीय मंचों (वेब साइटों) पर भी उनकी लगभग इतनी ही रचनाएँ प्रकाशित हो चुकी हैं। वे देश के विविध प्रांतों में भव्य कार्यक्रम आयोजित कर 'अखिल भारतीय दिव्य नर्मदा अलंकरण' के माध्यम से हिंदी के श्रेष्ठ रचनाकारों के उत्तम कृतित्व को वर्षों तक विविध अलंकरणों से अलंकृत करने, सत्साहित्य प्रकाशित करने तथा पर्यावरण सुधर, आपदा निवारण व् शिक्षा प्रसार के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने का श्रेय प्राप्त अभियान संस्था के संस्थापक-अध्यक्ष हैं। इंजीनियर्स फॉर्म (भारत) के महामंत्री के अभियंता वर्ग को राष्ट्रीय-सामाजिक दायित्वों के प्रति सचेत कर उनकी पीड़ा को समाज के सम्मुख उद्घाटित कर सलिल जी ने सथक संवाद-सेतु बनाया है। वे विश्व हिंदी परिषद जबलपुर के संयोजक भी हैं। अभिव्यक्ति विश्वम दुबई द्वारा आपके प्रथम नवगीत संग्रह 'सड़क पर...' की पाण्डुलिपि को 'नवांकुर अलंकरण २०१६' (१२०००/- नगद) से अलङ्कृत किया गया है। अब तक आपकी चार कृतियाँ कलम के देव (भक्तिगीत), लोकतंत्र का मक़बरा तथा मीत मेरे (काव्य संग्रह) तथा भूकम्प ले साथ जीना सीखें (लोकोपयोगी) प्रकाशित हो चुकी हैं।

सलिल जी छन्द शास्त्र के ज्ञाता हैं। दोहा छन्द, अलंकार, लघुकथा, नवगीत तथा अन्य साहित्यिक विषयों के साथ अभियांत्रिकी-तकनीकी विषयों पर आपने अनेक शोधपूर्ण आलेख लिखे हैं। आपको अनेक सहयोगी संकलनों, स्मारिकाओं तथा पत्रिकाओं के संपादन हेतु साहित्य मंडल श्रीनाथद्वारा ने 'संपादक रत्न' अलंकरण से सम्मानित किया है। हिंदी साहित्य सम्मलेन प्रयाग ने संस्कृत स्त्रोतों के सारगर्भित हिंदी काव्यानुवाद पर 'वाग्विदाम्बर सम्मान' से सलिल जी को सम्मानित किया है। कहने का तात्पर्य यह है कि सलिल जी साहित्य के सुचर्चित हस्ताक्षर हैं। 'काल है संक्रांति का' आपकी पाँचवी प्रकाशित कृति है जिसमें आपने दोहा, सोरठा, मुक्तक, चौकड़िया, हरिगीतिका, आल्हा अदि छन्दों का आश्रय लेकर गीति रचनाओं का सृजन किया है।
भगवन चित्रगुप्त, वाग्देवी माँ सरस्वती तथा पुरखों के स्तवन एवं अपनी बहनों (रक्त संबंधी व् मुँहबोली) के रपति गीतात्मक समर्पण से प्रारम्भ इस कृति में संक्रांतिकाल जनित अराजकताओं से सजग करते हुए चेतावनी व् सावधानियों के सन्देश अन्तर्निहित है। 

'सूरज को ढाँके बादल
सीमा पर सैनिक घायल
नाग-सांप फिर साथ हुए
गुँजा रहे वंशी मादल
लूट-छिप माल दो
जगो, उठो।'


उठो सूरज, जागो सूर्य आता है, उगना नित, आओ भी सूरज, उग रहे या ढल रहे?, छुएँ सूरज, हे साल नये आदि शीर्षक नवगीतों में जागरण का सन्देश मुखर है। 'सूरज बबुआ' नामक बाल-नवगीत में प्रकृति उपादानों से तादात्म्य स्थापित करते हुए गीतकार सलिल जी ने पारिवारिक रिश्तों के अच्छे रूपक बाँधे हैं- 

'सूरज बबुआ!
चल स्कूल।
धरती माँ की मीठी लोरी
सुनकर मस्ती खूब करी।
बहिम उषा को गिर दिया
तो पिता गगन से डाँट पड़ीं।
धूप बुआ ने लपक उठाया
पछुआ लायी
बस्ते फूल।'


गत वर्ष के अनुभवों के आधार पर 'में हिचक' नामक नवगीत में देश की सियासी गतिविधियों को देखते हुए कवी ने आशा-प्रत्याशा, शंका-कुशंका को भी रेखांकित किया है।

'नये साल
मत हिचक
बता दे क्या होगा?
सियासती गुटबाजी
क्या रंग लाएगी?
'देश एक' की नीति
कभी फल पाएगी?
धारा तीन सौ सत्तर
बनी रहेगी क्या?
गयी हटाई
तो क्या
घटनाक्रम होगा?'


पाठक-मन को रिझाते ये गीत-नवगीत देश में व्याप्त गंभीर समस्याओं, बेईमानी, दोगलापन, गरीबी, भुखमरी, शोषण, भ्रष्टाचार, उग्रवाद एवं आतंक जैसी विकराल विद्रूपताओं को बहुत शिद्दत के साथ उजागर करते हुए गम्भीरता की ओर अग्रसर होते हैं।
बुंदेली लोकशैली का पुट देते हुए कवि ने देश में व्याप्त सामाजिक, आर्थिक, विषमताओं एवं अन्याय को व्यंग्यात्मक शैली में उजागर किया है। 

मिलती काय ने ऊँचीबारी
कुर्सी हमखों गुईंया
पैला लेऊँ कमिसन भारी
बेंच खदानें सारी
पाँछू घपले-घोटालों सों
रकम बिदेस भिजा री


समीक्ष्य कृति में 'अच्छे दिन आने वाले' नारे एवं स्वच्छता अभियान को सटीक काव्यात्मक अभिव्यक्ति दी गयी है। 'दरक न पायेन दीवारें नामक नवगीत में सत्ता एवं विपक्ष के साथ-साथ आम नागरिकों को भी अपनी ज़िम्मेदारियों के प्रति सचेष्ट करते हुए कवि ने मनुष्यता को बचाये रखने की आशावादी अपील की है।
कवी आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' ने वर्तमान के युगबोधी यथार्थ को ही उजागर नहीं किया है अपितु अपनी सांस्कृतिक अस्मिता के प्रति सुदृढ़ आस्था का परिचय भी दिया है। अतः, यह विश्वास किया जा सकता है कि कविवर सलिल जी की यह कृति 'काल है संक्रांति का' सारस्वत सराहना प्राप्त करेगी।


  • पुस्तक -काल है संक्रांति का, गीत-नवगीत संग्रह, आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल', प्रथम संस्करण 2016, आकार 22 से.मी. x 13.5 से.मी., आवरण बहुरंगी, पेपरबैक जैकेट सहित, पृष्ठ 128, मूल्य जन संस्करण 200/-, पुस्तकालय संस्करण 300/-, समन्वय प्रकाशन, 204 विजय अपार्टमेंट, नेपियर टाउन जबलपुर-482003]

आचार्य भगवत दुबे


पिसनहारी मढ़िया के निकट,
जबलपुर-482003
फ़ोन-9300613975