शनिवार, 18 अक्तूबर 2014

अंसार क़म्बरी के दोहे




चित्र गूगल सर्च इंजन से साभार



अधरों पर मुस्कान..



मन से जो भी भेंट दे, उसको करो कबूल |
काँटा मिले बबूल का, या गूलर का फूल ||

सागर से रखती नहीं, सींपी कोई आस |
एक स्वाति की बूँद से, बुझ जाती है प्यास ||

गिरा हुआ आकाश से, संभव है उठ जाये |
नजरों से गिर जाये जो, उसको कौन उठाये ||

सूरज बोला चाँद से, कभी किया है ग़ौर |
तेरा जलना और है, मेरा जलना और ||

प्यासे के जब आ गयी, अधरों पर मुस्कान |
पानी-पानी हो गया, सारा रेगिस्तान ||

रातों को दिन कह रहा, दिन को कहता रात |
जितना ऊँचा आदमी, उतनी नींची बात ||

जब तक अच्छा भाग्य है, ढके हुये है पाप |
भेद खुला हो जायेंगे, पल में नंगे आप ||

बहुदा छोटी वस्तु भी, संकट का हल होय |
डूबन हारे के लिये, तिनका सम्बल होय ||

ढाई आखर छोड़ जब, पढ़ते रहे किताब |
मन में उठे सवाल का, कैसे मिले जवाब ||

तुम्हें मुबारक हो महल, तुम्हें मुबारक ताज |
हम फ़क़ीर हैं ‘क़म्बरी’, करें दिलों पर राज ||


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें